Uncategorized

डॉ. रोशन जैकब ने की आईसीसीसी के कार्यों की समीक्षा, कहा-मरीजों की सुविधा का रखें ध्यान

लखनऊ। प्रभारी अधिकारी कोविड-19 लखनऊ डॉ. रोशन जैकब ने मंगलवार को एकीकृत कोविड कण्ट्रोल एण्ड कमाण्ड सेंटर (आईसीसीसी) द्वारा किये जा रहे इमरजेंसी कॉलिंग एवं एडमिशन कार्यों की समीक्षा की और आईसीसीसी के कार्यों में लगे लोगों को मरीजो के सुविधा का ध्यान रखने को कहा। डॉ रोशन जैकब ने कहा कि कमाण्ड सेंटर द्वारा प्रत्येक मरीज के बेड एलोकेशन के लिए भेजे गए रिक्वेस्ट पर अस्पताल अप्रूवल लेटर जारी करने में विलम्ब न किया जाय, जिससे बेड उपलब्ध होने का लाभ समय से मरीज को मिल पाता है। वर्तमान में पब्लिक व्यू पोर्टल http://dgrmhup.gov.in/EN/Covid19bedtrack पर लखनऊ जनपद के प्रत्येक मेडिकल कालेज एवं चिकित्सालयों अद्यावधिक बेड पोजीशन उपलब्ध है।

ऐसे में तीनों शिफ्ट के मेडिकल प्रभारियों द्वारा अपने सत्र के शुरूआत में ही बेड्स की उपलब्धता की स्थिति पोर्टल पर देखते हुए आवश्यकतानुसार सम्बन्धित अस्पताल से वार्ता करके एल-3, एल-2 एवं एल-1 के रिक्त बेड्स की स्टेट्स तय की जाय। तदोपरान्त उपलब्ध बेड्स को बिना किसी अस्पताल को रिक्वेस्ट भेजे, मरीजों के बीच सीधे अलॉट कर दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी शिफ्ट ड्यूटीज समय से संचालित हो, ताकि ऐसी स्थिति न उत्पन्न हो कि शिफ्ट के बीच के अन्तराल में डाक्टर्स कमाण्ड सेंण्टर में अनुपस्थित हों। हर शिफ्ट के डाक्टर्स निर्धारित समय पर कमाण्ड सेंटर में उपस्थित हो। यह भी सुनिश्चित किया जाये कि शिफ्ट बदलने के समय पर प्रत्येक शिफ्ट प्रभारी आने वाली टीम के लिए एक हैण्डओवर नोट दे जायें, जिससे कि उस समय तक की पेशेंट कॉलिंग एवं एडमीशन की असली स्टेट्स उन्हें पता रहे और व्यवस्थित तथा निर्बाध रूप से एडमीशन का कार्य सम्पन्न किया जा सके। उन्होंने कहा कि किसी भी मरीज द्वारा कॉल सेण्टर से एडमीशन के लिए सम्पर्क करने पर उनका एक युनिक आईडी रामा इन्फोटेक प्रा लि द्वारा जनरेट कराया जाये।जिसके बारे में जानकारी एक एसएमएस के माध्यम से मरीज को दी जाये, ताकि उन्हें अपने रिक्वेस्ट पर अग्रेतर क्या कार्यवाही हुई, उसकी जानकारी प्राप्त हो सकें। एडमिशन हो जाने पर मरीज, एम्बुलेंस कण्ट्रोल एवं सम्बन्धित अस्पताल को पुनः एसएमएस के माध्यम से सूचना दी जाय, ताकि भर्ती प्रकिया में किसी भी प्रकार से अनावश्यक विलम्ब न हो।

Related Articles