ब्लाॅक प्रमुख चुनाव: पूर्वांचल में भी बीजेपी का बजा डंका, सपा सिमटी

वाराणसी की आठों ब्लॉक प्रमुख की सीट पर भाजपा और सहयोगी दल का कब्जा

वाराणसी, भदोही, मिर्जापुर, चंदौली, जौनपुर, आजमगढ़, मउ, बलिया से सोनभद्र तक बीजेपी का दबदबा, मिर्जापुर में 12 में से 10 पर भाजपा तो दो पर निर्दल प्रत्याशी जीते, आजमगढ़ में भाजपा का बोलबाला, 22 में से आधी सीटें बीजेपी के खाते में, सपा को मिलीं सिर्फ चार, जौनपुर में 15 सीट पर भाजपा, दो पर सपा व चार पर निर्दलीय प्रत्याशी जीते, चंदौली में आठ पर भाजपा का कब्जा, एक पर सपा उम्मीदवार की जीत, बलिया में आठ ब्लाक में भाजपा, छह पर सपा के प्रमुख काबिज, पूर्वांचल के 10 जिलों में 47 ब्लॉक प्रमुख निर्विरोध निर्वाचित, मऊ में तीन सीट पर खिला कमल, दो पर निर्दलीय की जीत, सपा का नहीं खुला खाता, सूबे में 635 के पार बीजेपी, सपा को मिले सिर्फ 63, सियासी दलों के बीच संघर्ष, जीत के बाद खिले समर्थकों के चेहरे।

-सुरेश गांधी

वाराणसी। पंचायत के बाद अब ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भी भाजपा ने अपना दबदबा कायम कर लिया है। शनिवार को बवाल, तोड़फोड़ और हिंसा के बीच संपन्न हुए चुनाव में भाजपा ने 825 में से 648 सीटों पर जीत का दावा किया है। इनमें 334 पहले ही निर्विरोध चुने गए थे। 476 पदों के लिए शनिवार को मतदान हुआ। सपा ने 100 से अधिक सीटें जीतने का दावा किया है। निर्दलीयों ने भी 70 से अधिक सीटों पर कब्जा जमाया है। बता दें, त्तर प्रदेश में गांव तथा जिला की सरकार के बाद अब ब्लाक की सरकार का भी गठन हो रहा है। सत्तारूढ भाजपा को ब्लाक प्रमुख चुनाव में बम्पर जीत मिली है। पूर्वांचल में भाजपा ने अब गांवों में भी अपना दबदबा कायम कर लिया है। पूर्वांचल में ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव में भाजपा ने बड़ी जीत हासिल की है। वाराणसी में गहमागहमी और हंगामे के बीच ब्लॉक प्रमुख पदों के लिए मतदान के बाद परिणाम घोषित कर दिए गए। आठों ब्लॉक के प्रमुख पदों पर भाजपा और उनके सहयोगी दल अपना दल एस का कब्जा हो गया। सपा का चरखा दांव काम नहीं आया। भाजपा और अपना दल एस ने नामांकन के साथ ही चार सीटों पर अपने प्रत्याशियों को निर्विरोध जीत दिलाई थी। चिरईगांव, काशी विद्यापीठ, पिंडरा में भाजपा प्रत्याशी जीते तो बड़ागांव से अपना दल एस की प्रत्याशी विजयी घोषित की गई। इन सभी को जीत के बाद प्रमाणपत्र दिया गया।

आठों ब्लॉकों के प्रमुख के नाम इस प्रकार है- सेवापुरी से रीना कुमारी (भाजपा) निर्विरोध, बड़ागांव से नूतन (अपना दल एस), पिंडरा से धर्मेंद्र (भाजपा), हरहुआ से विनोद कुमार उपाध्याय (भाजपा) निर्विरोध, चोलापुर से लक्ष्मीना देवी (भाजपा) निर्विरोध, चिरईगांव से अभिषेक कुमार (भाजपा), काशी विद्यापीठ से रेनू पटेल (भाजपा), आराजीलाइन से नगीना (अपना दल एस) निर्विरोध चुने गए। मिर्जापुर में छह निर्विरोध प्रमुख के बाद बची छह अन्य सीटों पर हुए मतदान के बाद छह में से चार सीट पर भाजपा प्रत्याशियों ने कब्जा जमाया तो वहीं दो पर निर्दलों ने जीत हासिल की। जिले की दो महत्वपूर्ण सीट, सिटी व छानबे पर निर्दल विजयी रहे। सिटी ब्लॉक में निर्दल मनोरमा देवी, छानबे ब्लॉक से निर्दल सुमन सिंह, पड़री ब्लॉक से भाजपा समर्थित प्रत्याशी इंद्र बहादुर पांडेय, मझवां से दिलीप सिंह हलिया से भाजपा प्रत्याशी देवी विजयी रही। जबकि राजगढ़ से गजेंद्र प्रताप सिंह, लालगंज से जयंत सरोज, कोन से मीनाक्षी सिंह, सीखड़ से क्षत्रपति सतेंद्र कुमार सिंह निर्विरोध हो गए थे। ये सभी भाजपा समर्थित प्रत्याशी हैं। पटेहरा कलां से अपना दल एस व भाजपा की संयुक्त समर्थित प्रत्याशी गरिमा सिंह निर्विरोध रहीं। नरायनपुर में भाजपा के चंद्र प्रकाशसिंह निर्विरोध हो गए थे।

आजमगढ़ जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में करारी हार के बाद ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भाजपा का बोलबाला देखने को मिला। सर्वाधिक 11 सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की। वहीं, मुख्य विपक्षी दल सपा को मात्र चार सीट ही मिल सकीं। सात सीटों पर निर्दल प्रत्याशियों ने कब्जा जमाया। जिले में कुल 22 ब्लॉक हैं। जिसमें पांच ब्लॉको में निर्विरोध निर्वाचन हो गया। इसमें अजमतगढ़ से निर्दल अलका मिश्रा, ठेकमा से निर्दल दुर्गावती देवी, लालगंज से सपा की अमला देवी, फूलपुर से सपा की अर्चना यादव व तरवां से भाजपा के मतानु राम शामिल हैं। जौनपुर में 21 ब्लाकों के प्रमुख पद के चुनाव का परिणाम घोषित कर दिया गया। इसमें 15 ब्लाकों में भाजपा समर्थित प्रत्याशियों ने कब्जा जमाया तो दो पर सपा समर्थित ने जीत दर्ज की। वहीं चार ब्लाकों पर निर्दलियों का कब्जा हुआ। बलिया में 17 विकास खंडों में आठ स्थानों पर निर्विरोध निर्वाचन हुआ जबकि नौ ब्लाकों में मतदान के बाद परिणाम घोषित किए गए। वहीं छह में सपा समर्थित उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है।

चंदौली में नौ ब्लॉकों में से आठ ब्लॉकों पर भाजपा के समर्थित उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है। वहीं, सपा को मात्र एक सीट से संतोष करना पड़ा है। आठ जुलाई को नामांकन के दौरान नौगढ़, चकिया, शहाबगंज और धानापुर चार ब्लॉकों में भाजपा समर्थित प्रत्याशियों के अलावा किसी और ने पर्चा नहीं भरा। चारों निर्विरोध निर्वाचित हुए। बचे पांच ब्लॉकों पर शनिवार को मतदान हुआ। जिसमें बरहनी ब्लॉक से भाजपा की सुनीता देवी, चहनियां से भाजपा के अरूण कुमार जायसवाल, सकलडीहा से भाजपा के अवधेश सिंह और सदर ब्लॉक से भाजपा समर्थित संजय सिंह विजयी रहे। वहीं, नियामताबाद ब्लॉक से पूर्व सांसद रामकिशुन यादव की भयोह कमला देवी सपा से जीत हासिल की। जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव के बाद ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भी सपा का सफाया हो जाना चर्चा का विषय बना हुआ है। भदोही ब्लॉक से भाजपा की सुनीता मिश्रा के नाम वापस लेने से प्रियंका सिंह और ज्ञानपुर ब्लॉक से आनंद मिश्रा के नामांकन वापस लेने से भाजपा की आरती सिंह का निर्विरोध चुन ली गईं। मऊ जिले में बड़राव, दोहरीघाट, फतेहपुर मंडाव, परदहा, रतनपुरा और मुहम्मदाबाद गोहना ब्लॉक में चुनाव हुए। इनमें से तीन ब्लॉक में भाजपा प्रत्याशी की जीत हुई।

Related Articles